Saturday, 10 March 2018

आँखों से गिरा अश्क कोई उठा नहीं सकता.



आँखों से गिरा अश्क कोई उठा नहीं सकता, 
तक़दीर में लिखा कोई मिटा नहीं सकता,
आप दिल की धड़कन है हमारी,
और हमारी धड़कन को हमसे कोई चुरा नहीं सकता।

Related Posts

आँखों से गिरा अश्क कोई उठा नहीं सकता.
4/ 5
Oleh

Subscribe via email

Like the post above? Please subscribe to the latest posts directly via email.