Sunday, 19 November 2017

चमगादड़ पेड़ से उल्टा लटक कर क्यों सोते हैं.

आप लोग जानते होंगे अगर नहीं जानते तो आपको बता देते है की चमगादड़ पेड़ से उल्टा लटक कर क्यों सोते है। चमगादड़ ही एक ऐसा प्राणी है जो पेड़ से उल्टा लटक कर सोता है। लटके रहने से चमगादड़ को उड़ान भरने में आसानी होती है। क्योकि दूसरे पक्षियों की तरह यह जमीन से उड़ान नहीं भर पाता, क्योंकि इसका पंख भरपूर उड़ान नहीं देता है। चमगादड़ का पिछला पैर इतना छोटा और अविकसित होता है कि यह दौड़ कर गति नहीं पकड़ पाता।


यह आमतौर पर अंधेरी गुफाओं में दिन भर आराम करता है और रात को भोजन की तलाश में निकलता है। यह एक अकेला ऐसा स्तनधारी प्राणी है, जो उड़ सकता है। पूरी दुनिया में चमगादड़ की करीब 1000 प्रजातियां पाई जाती हैं। यह कीड़े-मकौड़े, मछली या फिर जानवरों का खून पीता है। पिशाच चमगादड़ पूरी तरह से खून पर ही निर्भर रहता है। इनकी तीन प्रजातियां होती हैं। पिशाच चमगादड़ के दांत छोटे और बेहद तेज होते हैं।


चमगादड़ 20 वर्ष से अधिक जीवन जीते हैं। पेटेरपस चमगादड़ दुनिया में सबसे बड़ा है। चमगादड़ों की सबसे बड़ी गुफा टेक्सास में है, जहां करीब दो करोड़ चमगादड़ रहते हैं।
इसके सुनने की क्षमता अद्भुत होती है। यह एक बाल की हरकत को भी आसानी से सुन सकता है। कुछ छोटे चमगादड़ों की सोते समय दिल की गति सिर्फ 18 बार प्रति मिनट होती है, लेकिन जागते समय इन चमगादड़ो की दिल की गति लगभग 880 तक पहुंच जाती है।

Related Posts

चमगादड़ पेड़ से उल्टा लटक कर क्यों सोते हैं.
4/ 5
Oleh

Subscribe via email

Like the post above? Please subscribe to the latest posts directly via email.